Job Shankar – Government Jobs In India

What is eSIM? How it works

What is eSIM? How it works?

What is eSIM? How it works?नमस्कार दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम eSIM के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं। हम जब भी कोई फोन खरीदते हैं तो उसमें सिम कार्ड जरूर लगाते हैं।

क्योंकि बिना सिम कार्ड के हम न तो फोन से कॉल कर सकते हैं, न ही मैसेज भेज सकते हैं और न ही इंटरनेट सेवाओं का फायदा उठा सकते हैं। ऐसे में सिम कार्ड की जरूरत होती है।

लेकिन अब हमें फोन में सिम कार्ड डालने की जरूरत नहीं होगी। क्योंकि फोन के अंदर ई-सिम पहले से इंस्टॉल होगा। जो बिल्कुल फिजिकल सिम कार्ड की तरह काम करेगा। लेकिन सवाल यह है कि क्या यह ई-सिम है और कैसे काम करता है? साथ ही, इसे सक्रिय करने की प्रक्रिया क्या है? आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

शुरुआत में हमने मिनी सिम कार्ड का इस्तेमाल किया। लेकिन समय के साथ सिम कार्ड का आकार छोटा होता गया और माइक्रो सिम और फिर नैनो-सिम से मिनी-सिम चलने लगा। लेकिन अब नैनो-सिम का एक छोटा रूप यानी ई-सिम कार्ड भी हो गया है। जो एक वर्चुअल सिम कार्ड है।

Read More:- How to Make PDF From Photos on Mobile?

कहने का तात्पर्य यह है कि आकार के साथ-साथ सिम कार्ड की तकनीक भी पूरी तरह से बदल गई है, और भौतिक सिम कार्ड अब अतीत की बात है। अब वर्चुअल सिम कार्ड यानी ई-सिम कार्ड का जमाना है जो एक नई तकनीक है।

इसका उपयोग करना बहुत आसान और उन्नत है। साथ ही, भौतिक सिम कार्ड बदलने के लिए पूरी तरह से तैयार है। लेकिन सवाल यह है कि यह ई-सिम है क्या? और यह फिजिकल सिम कार्ड को कैसे रिप्लेस करेगा? आइए जानते हैं।

What is eSIM?

What is eSIM? How it works?
What is eSIM? How it works?

eSIM का मतलब एंबेडेड सिम है। यानी एंबेडेड एक सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल है। दरअसल, यह एक वर्चुअल सिम कार्ड है जो एक चिप के रूप में फोन के साथ लगा होता है।

यानी यह फोन से कनेक्टेड है। बता दें कि फोन का एक ही हिस्सा है, जिसे आप फोन से अलग नहीं कर सकते। और चूँकि eSIM एक वर्चुअल सिम कार्ड है। तो यह सॉफ्टवेयर की मदद से काम करता है।

आसान भाषा में कहें तो eSIM कार्ड फोन के इंटरनल स्टोरेज की तरह होता है, जिसमें आप कोई भी डेटा लिख ​​सकते हैं। यानी यह रीराइटेबल है। साथ ही फोन के अंदर प्री-इंस्टॉल आता है।

ऐसे में आप इसे एक फोन से हटाकर दूसरे फोन में नहीं लगा सकते। लेकिन अगर आप अपना फोन बेचने जा रहे हैं तो उसमें ई-सिम नंबर को एक्टिवेट कर दूसरे फोन में एक्टिवेट कर सकते हैं। बता दें कि ई-सिम कार्ड को किसी भी नेटवर्क ऑपरेटर के साथ कंफिगर किया जा सकता है।

How does E-SIM work?

जब आप ई-सिम वाला फोन खरीदते हैं तो उसमें मौजूद ई-सिम पूरी तरह से खाली होता है। ऐसे में उसे एक्टिवेट करने के लिए सर्विस प्रोवाइडर से संपर्क करना होगा।

सर्विस प्रोवाइडर आपको एक क्यूआर कोड देता है, जो स्कैन होते ही फोन में सिम को एक्टिवेट कर देता है। और आप सभी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। इस पूरी प्रक्रिया में करीब 2 घंटे का समय लगता है।

मैं आपको बताना चाहूंगा कि फिलहाल भारत में केवल एयरटेल और जियो ही ऐसे सर्विस प्रोवाइडर हैं, जो ई-सिम सर्विस दे रहे हैं, बाकी टेलीकॉम कंपनियों के पास यह सुविधा नहीं है।

ऐसे में अगर आप एयरटेल या जियो के ग्राहक नहीं हैं तो आपको अपना नंबर एयरटेल या जियो में पोर्ट कराना होगा। तभी आप ई-सिम सेवा का लाभ उठा पाएंगे।

लेकिन सवाल यह है कि ई-सिम को एक्टिवेट करने की प्रक्रिया क्या है? इसके लिए कौन से दस्तावेजों की आवश्यकता है? तो इसके लिए Airtel और Jio दोनों के पास अलग-अलग तरीके हैं। आइए जानते हैं दोनों के बारे में।

How to Activate eSIM?

सबसे पहले आपको यह तय करना होगा कि आप नया नंबर लेना चाहते हैं या अपने मौजूदा नंबर को eSIM में बदलना चाहते हैं। अगर आप मौजूदा नंबर को इस eSIM में बदलना चाहते हैं, और आपके पास Airtel या Jio का सिम कार्ड नहीं है।

तो आप अपने मौजूदा नंबर को Airtel या Jio में पोर्ट करवा सकते हैं। लेकिन अगर आप अपना नंबर पोर्ट नहीं कराना चाहते हैं तो आप एयरटेल या जियो का नया नंबर भी खरीद सकते हैं। आपकी इच्छा आपकी है। खैर, अब बारी है eSIM एक्टिवेट करने की। तो यह कोई बहुत कठिन कार्य नहीं है। यह बहुत आसान है।

How to activate Airtel’s eSIM?

अगर आप एयरटेल के ग्राहक हैं और अपने मौजूदा नंबर को eSIM में बदलना चाहते हैं। इसलिए eSIM <स्पेस> रजिस्टर्ड ईमेल आईडी टाइप करें और 121 पर भेजें। उदाहरण के लिए, अगर आपकी ईमेल आईडी [email protected] है, तो eSIM [email protected] टाइप करें और 121 पर भेज दें।

जैसे ही आप यह संदेश भेजेंगे, आपको एक पुष्टिकरण संदेश प्राप्त होगा। जिसमें आपसे पूछा जाएगा कि क्या आप वाकई अपने फिजिकल सिम कार्ड को eSIM में बदलना चाहते हैं। आपको 1 लिखकर जवाब भेजना है। जिसका मतलब है हां। और इसका जवाब आपको 60 सेकेंड के अंदर देना होगा।

क्योंकि 60 सेकेंड के बाद मैसेज एक्सपायर हो जाएगा। वैसे पुष्टि के बाद, आपकी ईमेल आईडी पर एक मेल भेजा जाएगा जिसमें आपको एक क्यूआर कोड मिलेगा। आपको इस क्यूआर कोड को स्कैन करके अपने सिम को एक्टिवेट करना होगा। लेकिन सवाल यह है कि कैसे? तो जवाब बहुत आसान है।

अगर आप आईफोन यूजर हैं तो अपने फोन की सेटिंग में जाकर मोबाइल डेटा पर टैप करें, फिर ऐड डेटा प्लान पर टैप करें और आखिर में स्कैन क्यूआर कोड पर टैप करें और कैमरे की मदद से क्यूआर कोड को स्कैन करें।

Read More:- Best 5 GPL Sites 2021 – For WordPress Themes & Plugins

यदि आप एक Android उपयोगकर्ता हैं, तो अपने फ़ोन की सेटिंग में जाएँ और नेटवर्क सुरक्षा पर जाएँ, मोबाइल नेटवर्क पर जाएँ, फिर वाहक पर जाएँ और अग्रिम में वाहक जोड़ें। और अंत में, कैमरे का उपयोग करके क्यूआर कोड को स्कैन करें।

How to activate jio eSIM?

अगर आप जियो यूजर हैं तो इस सिम के साथ अपना फोन लें और नजदीकी जियो स्टोर या रिलायंस डिजिटल आउटलेट पर जाएं। और वहां से अपना CAF भरकर सबमिट कर दें। फॉर्म में अपना लाइव नंबर और फोन का IMEI नंबर लिखें।

क्योंकि यह जरूरी है। फॉर्म जमा करने के बाद, Jio के कार्यकारी अधिकारी आपके फॉर्म की जांच करेंगे। और आपके द्वारा दिए गए विवरण को सत्यापित करेगा, और फिर एक पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीन के माध्यम से एक क्यूआर कोड उत्पन्न करेगा।

यह क्यूआर कोड आपके फोन से स्कैन होगा और उसके बाद यह सिम एक्टिवेट हो जाएगा।

What are the advantages of eSIM?

अगर eSIM को फ्यूचर टेक्नोलॉजी कहा जाए तो कुछ भी गलत नहीं होगा। क्योंकि आने वाले समय में हर स्मार्टफोन में सिर्फ eSIM ही देखने को मिलेगा.

अब आप पूछेंगे क्यों? तो ऐसा इसलिए है क्योंकि eSIM के कई फायदे हैं। क्या हैं फायदे, आइए जानते हैं।

  • Space-saving:

eSIM की वजह से डिवाइस में अलग से सिम कार्ड ट्रे नहीं है। यह जगह बचाता है। और इस बचे हुए स्थान का उपयोग एक अन्य महत्वपूर्ण घटक के लिए किया जा सकता है।

  • Anti -Theft

eSIM कार्ड का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे न तो खोया जा सकता है और न ही चोरी किया जा सकता है। फोन चोरी हो जाए तो बात अलग है। लेकिन इसका एक फायदा भी है। दरअसल, चोर सिम कार्ड को फोन से नहीं निकाल सकते और इसे पकड़ना आसान होता है।

  • Less Battery Consumption

eSIM सॉफ्टवेयर की मदद से काम करता है। इसलिए यह फिजिकल सिम कार्ड के बजाय कम बैटरी की खपत करता है।

  • Network Switching

eSIM की मदद से सर्विस प्रोवाइडर को बदलना काफी आसान है। जैसे अगर आप एयरटेल के ग्राहक हैं। और जिओ की सेवा लेना चाहते हैं। तो आप बिना अपना नंबर बदले और बिना सिम कार्ड बदले Jio की सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

  • Best For Travlers

विदेश यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए यह किसी वरदान से कम नहीं है। क्योंकि यह यात्री को रोमिंग शुल्क से बचाता है।

  • Better Security

जानकारों की माने तो eSIM फिजिकल सिम से ज्यादा सुरक्षित है। ऐसे में सुरक्षा के लिहाज से भी eSIM एक बेहतर विकल्प है।

  • Conclusion

eSIM के कई फायदे हैं। लेकिन एक नुकसान भी है। दरअसल, इसे एक फोन से हटाकर दूसरे फोन में नहीं डाला जा सकता। क्योंकि यह फोन से जुड़ा होता है।

ऐसे में अगर आपका फोन बैटरी कम होने की वजह से बंद होने वाला है और क्या आप सिम कार्ड निकालकर दूसरे फोन में लगाना चाहते हैं। ताकि जरूरी कॉल और मैसेज छूट न जाएं।

तो यह संभव नहीं है। हालाँकि, इसे कॉल फ़ॉरवर्डिंग के माध्यम से हल किया जा सकता है। लेकिन दूसरा फोन और सिम कार्ड होना भी जरूरी है।

ईएसआईएम क्या है? और यह कैसे काम करता है इसकी पूरी जानकारी प्राप्त हो गई होगी। अब अगर इस विषय में आपका कोई सवाल है तो आप हमें जरूर बताएं। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें।

Read More:

Leave a Comment

Your email address will not be published.